प्रथम सार्वजनिक सुनुवाई (०७२/७३)